Raksha Bandhan 2022

रक्षाबंधन 11 अगस्त को, जानें इस दिन क्या करें और क्या नहीं 

रक्षाबंधन 11 अगस्त को, जानें इस दिन क्या करें और क्या नहीं 

भाई बहन के बंधन का पर्व रक्षाबंधन एक ऐसा पर्व जो मान्यताओं से जुड़ा है. इस बार रक्षाबंधन का त्योहार 11 अगस्त 2022 दिन गुरुवार को मनाया जाएगा.

भाई बहन के बंधन का पर्व रक्षाबंधन एक ऐसा पर्व जो मान्यताओं से जुड़ा है. इस बार रक्षाबंधन का त्योहार 11 अगस्त 2022 दिन गुरुवार को मनाया जाएगा.

रक्षाबंधन कब मनाएं 11 या 12 अगस्त को ? क्या कहता है शास्त्र और पंचांग गणना

रक्षाबंधन कब मनाएं 11 या 12 अगस्त को ? क्या कहता है शास्त्र और पंचांग गणना

सावन पूर्णिमा तिथि और भद्रारहित काल पर हर वर्ष रक्षाबंधन का त्योहार मनाया जाता है। लेकिन इस साल रक्षाबंधन की तारीख को लेकर भ्रम की स्थिति बनी हुई है। 

सावन पूर्णिमा तिथि और भद्रारहित काल पर हर वर्ष रक्षाबंधन का त्योहार मनाया जाता है। लेकिन इस साल रक्षाबंधन की तारीख को लेकर भ्रम की स्थिति बनी हुई है। 

कुछ पंडितों और ज्योतिष के जानकारो का कहना है कि इस बार रक्षाबंधन का त्योहार 11 अगस्त को मनाना शुभ रहेगा, तो वहीं कुछ का कहना है कि राखी 12 अगस्त को मनाना श्रेष्ठ रहेगा।

कुछ पंडितों और ज्योतिष के जानकारो का कहना है कि इस बार रक्षाबंधन का त्योहार 11 अगस्त को मनाना शुभ रहेगा, तो वहीं कुछ का कहना है कि राखी 12 अगस्त को मनाना श्रेष्ठ रहेगा।

दरअसल जब कभी भी हिंदू धर्म में कोई व्रत या त्योहार की तिथि दो दिन पड़ती है तो इसको लेकर भ्रम की स्थिति पैदा हो जाती है।

दरअसल जब कभी भी हिंदू धर्म में कोई व्रत या त्योहार की तिथि दो दिन पड़ती है तो इसको लेकर भ्रम की स्थिति पैदा हो जाती है।

इस बार भी रक्षाबंधन पर पूर्णिमा तिथि दो दिन रहने के कारण लोगों के मन में संशय है कि राखी का त्योहार कब मनाएं।

इस बार भी रक्षाबंधन पर पूर्णिमा तिथि दो दिन रहने के कारण लोगों के मन में संशय है कि राखी का त्योहार कब मनाएं।

शास्त्रों के अनुसार दिन का कुछ समय शुभ कार्यों के लिए अच्छा नहीं माना जाता है। इसमें भद्राकाल और राहुकाल प्रमुख होता है। 

शास्त्रों के अनुसार दिन का कुछ समय शुभ कार्यों के लिए अच्छा नहीं माना जाता है। इसमें भद्राकाल और राहुकाल प्रमुख होता है। 

इस बार 11 अगस्त को सावन पूर्णिमा तिथि और श्रावण नक्षत्र के साथ पूरे दिन भद्राकाल रहेगा। 11 अगस्त को भद्रा का अशुभ समय रात 08 बजकर 53 मिनट पर समाप्त हो जाएगा।

इस बार 11 अगस्त को सावन पूर्णिमा तिथि और श्रावण नक्षत्र के साथ पूरे दिन भद्राकाल रहेगा। 11 अगस्त को भद्रा का अशुभ समय रात 08 बजकर 53 मिनट पर समाप्त हो जाएगा।

पंचांग के अनुसार श्रावण पूर्णिमा 11 अगस्त को मनाई जाएगी और पूर्णिमा 10.38 बजे शुरू होकर 12 अगस्त को सुबह 7.05 बजे समाप्त होगी।

पंचांग के अनुसार श्रावण पूर्णिमा 11 अगस्त को मनाई जाएगी और पूर्णिमा 10.38 बजे शुरू होकर 12 अगस्त को सुबह 7.05 बजे समाप्त होगी।

READ MORE